Breaking News

हवाई जहाज वाले भी करेंगे वंदे भारत की यात्रा, पीएम मोदी ने गिना दी इस खास ट्रेन की खूबियां

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात दौरे के दूसरे दिन अहमदाबाद को दोहरी सौगात दी। पीएम मोदी ने पहले गांधीनगर से वंदेभारत ट्रेन को रवाना किया। इसके बाद पीएम मोदी ने अहमदाबाद मेट्रो का उद्घाटन किया। वंदेभारत ट्रेन में सफर करने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा कि यह ट्रेन हवाई जहाज से भी अच्छी है। पीएम ने कहा कि आज मैंने कुछ मिनटों तक तेज रफ्तार का सफर किया। उन्होंने कहा मैं अपने अनुभव से कह सकता हूं कि वंदेभारत ट्रेन में सफर करना हवाई जहाज से बेहतर है, क्यों कि जब मैं सफर कर रहा था तो हवाई जहाज से 100 गुना तक कम आवाज आ रही थी। मैं आराम से बातचीत कर पा रहा था। उन्होंने कहा आने वाले दिनों जो हवाई जहाज से यात्रा करते हैं उन्हें वंदेभारत का सफर अच्छ लगने वाला है। उन्होंने कहा वंदेभारत ट्रेन की खूबी यह है सिर्फ 52 सेंकेंड में 100 किलोमीटर की रफ्तार पकड़ लेती है। उन्होंने कहा पिछले दिनों जब चीता आया था। तो उसकी गति पर बात हुई थी। पीएम ने कहा कि वंदेभारत बदलते भारत की ट्रेन हैं। आने वाले दिनों में देश का रेलवे नेटवर्क आधुनिक होगा। एक जगह से दूसरी जगह पर पहुंचना आसाना होगा।

दिल्ली भेजा तो कर दिया
प्रधानमंत्री ने कहा कि वंदेभारत और अहमदाबाद मेट्रो से शहर को गति मिलेगी। मोदी ने कहा शहर में ट्रांसपोर्ट का सिस्टम आधुनिक हो और यह एक सिस्टम दूसरे सिस्टम को कनेक्ट करे। यह किया जाना जरूरी है। पीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री के तौर पर मैंने मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट का सपना देखा था, लेकिन तब मैं नहीं कर पाया। आप ने मुझे दिल्ली भेजा तो मैंने कर दिया। इससे पहले उन्होंने कहा कि एक बड़ी जमात है जो मेरे गुजरात के काम पर नजर रखती है। उन्हें देखना चाहिए। मोदी ने कहा कि आज गांधीनगर रेलवे स्टेशन दुनिया के किसी एयरपोर्ट से कम नहीं है।

मेरे विजन सवाल खड़े किए गए
पीएम ने कहा दो दिन पहले भारत सरकार ने अहमदाबाद रेलवे स्टेशन को आधुनिक बनाने की स्वीकृति दे दी है। उन्होंने कहा शहरों पर इतना बड़ा निवेश इसलिए किया जा रहा है, क्यों आने वाले दिनों में ये शहर ही 25 सालों में भारत भाग्य बदलेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2004-05 में गिफ्ट सिटी की बात की थी। तो बहुत कुछ बोला गया था कि ऐसा क्या हो सकता है? पीएम मोदी ने कहा कि जब गुजरात ने मुझे यहां सेवा का मौका दिया तो मैंने बीआरटी कॉरीडोर पर काम किया। यह भी पहला काम था। लोग विदेश से आते थे तो बीआरटी को देखते थे। उन्होंने तब भी मेरी कोशिश थी, कि आम लोगों को कनेक्टीविटी का लाभ कैसे मिले? उन्होंने कहा आज उसी सपने को साकार होता देख रहा हूं। पीएम ने कहा आज अहमदाबाद मेट्रो के 32 किलोमीटर का हिस्सा तैयार हुआ है। उन्होंने कहा भारत में एक साथ इतने लंबे नेटवर्क की शुरुआत कभी नहीं हुई। उन्होंने दूसरे चरण में मेट्रो गांधीनगर को जोड़ेंगी।

मुख्यमंत्री ने की तारीफ
इससे पहले फिलहाल मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल संबोधित कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने कहा कि आज का दिन अहमदाबाद के लिए बेहद अहम है। अहमदाबाद को दो बड़ी सौगातें मिली हैं। उन्होंने गांवों से लेकर शहरों के विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निरंतर काम कर रहे हैं और नई-नई योजनाएं ला रहे हैं। उन्होंने कहा मेट्रो की सेवा हो या फिर वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेन से लोगों जल्द से सफर पूरा कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि मेट्रो अहमदाबाद की लाइफलाइन बनेगी। उन्होंने कहा कि 2009 में प्रधानमंत्री ने बीआरटीएस (जनमार्ग) सेवा शुरू की थी।

दूसरे नंबर पर पहुंचेगा भारत
कार्यक्रम को रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव और केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। पुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में मेट्रो नेटवर्क में जल्द ही दूसरे नंबर पर पहुंच जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत अभी चौथे नंबर पर है, लेकिन एक से दो साल में भारत ऊंची छलांग लगाएगा। पुरी ने कहा 2014 में पहले भारत में मेट्रो नेटवर्क के विस्तार की गति धीमी थी। 2014 के बाद इसमें तेजी आई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद मेट्रो के फेस-1 का शुभारंभ किया। इसमें दो रूट हैं। पहला थलतेज गांव से एपेरल पार्क तक का 21 किलोमीटर लम्बा रूट पूर्व एवं पश्चिम कॉरिडोर में है। जिसमें 17 स्टेशन हैं; जबकि उत्तर एवं दक्षिण कॉरिडोर 19 किलोमीटर का होगा, जो वासणा APMC से लेकर मोटेरा तक है, जिसमें 15 स्टेशन पड़ते हैं। पूर्व-पश्चिम कॉरिडोर में 6.6 किलोमीटर का अंडरग्राउंड सेक्शन है, जिसमें 4 अंडरग्राउंड स्टेशन हैं। 12925 करोड़ रुपए के ख़र्च से प्रथम चरण का कार्य किया गया है। कार्यक्रम में गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत के अलावा रेल राज्य मंत्री दर्शना जरदोश भी कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

5 रुपये से 25 रुपये तक किराया
दोनों कॉरिडोरों में टिकट दरें अलग-अलग स्टेशनों के लिए 55 से 25 रुपये के बीच रहेंगी। स्टेशनों पर नागरिकों के लिए विभिन्न सुविधाएँ विकसित की गई हैं, जिनमें दिव्यांगों के लिए विशेष रैम्प एवं व्हीलचेयर की सुविधा भी रहेगी। इसके अलावा नेशनल बिल्डिंग कोड (NBC) की गाइडलाइन के अनुसार टैक्टाइल (स्पर्शेन्द्रिय) मार्ग, कम ऊंचाई वाले टिकट काउंटर, लिफ़्ट में ब्रेलकॉल बटन व हैण्डरेल और रेस्टरूम की सुविधा दी गई है। महिलाओं के लिए विशेष वॉशरूम, विशेष क्रू की सुविधा दी गई है। सभी स्टेशनों पर सीसीटीवी कैमरा की निगरानी होगी और एसआरपीएफ़ व निजी सुरक्षा स्टाफ़ के जवान तैनात रहेंगे।

पूर्व तथा पश्चिम कॉरिडोर के स्टेशन
थलतेज गांव, दूरदर्शन केन्द्र, गुरूकुल रोड, गुजरात यूनिवर्सिटी, कॉमर्स छह रास्ता, एस. पी. स्टेडियम, पुरानी हाई कोर्ट, शाहपुर, घीकांटा, कालूपुर रेल्वे स्टेशन, कांकरिया पूर्व, एपेरेल पार्क, अमराईवाडी, रबारी कॉलोनी, वस्त्राल, निरांत चौकड़ी (क्रॉस रोड) और वस्त्राल गांव।

दूसरे चरण में मेट्रो गांधीनगर पहुंचेगी

राज्य की राजधानी गांधीनगर को मेट्रो के दूसरे चरण में अहमदाबाद के साथ जोड़ा जाएगा, जो अहमदाबाद मेट्रो के प्रथम चरण का विस्तार होगा। इस चरण में दो कॉरिडोर हैं, जिनमें 22.8 किलोमीटर का मोटेरा स्टेडियम से महात्मा मंदिर का रूट है। इसमें 20 स्टेशन हैं, जबकि गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (GNLU) से गिफ़्ट सिटी का 5.4 किलोमीटर का रूट होगा, जिसमें 2 स्टेशन हैं। कुल 28.26 किलोमीटर के ये समग्र रूट एलिवेटेड होंगे।

leave a reply